दुनिया की सबसे पहले corona vaccine को मंजूरी; ब्रिटेन ने Pfizer को मंजूरी दे दी, जो अगले सप्ताह जनता को देना शुरू कर देगा

 दुनिया की सबसे पहले corona vaccine को मंजूरी; ब्रिटेन ने Pfizer को मंजूरी दे दी, जो अगले सप्ताह जनता को देना शुरू कर देगा

Corona महामारी के बीच, उसकी vaccine के बारे में सबसे बड़ी खबर आई है। दुनिया की पहले कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दी गई है। ब्रिटिश सरकार ने Pfizer को कोरोना वैक्सीन के रूप में मंजूरी दे दी है। वैक्सीन अगले सप्ताह शुरू होने की उम्मीद है।

वैक्सीन को ब्रिटेन के Medicines and Healthcare Products Regulatory Authority (MHRA) द्वारा आपातकालीन उपयोग के लिए मंजूरी दी गई है। वह कहते हैं कि vaccine सभी सुरक्षा मानकों को पूरा करता है और प्रभावी है। ब्रिटेन इस Pfizer vaccine को मंजूरी देने वाला यूरोप का ही नहीं बल्कि दुनिया का पहला देश बन गया है। सरकारी स्रोतों के अनुसार, यह vaccine अगले सप्ताह ब्रिटेन में उपलब्ध होगी। ब्रिटिश सरकार ने अपने डॉक्टरों को हर नागरिक को आसानी से vaccine उपलब्ध कराने के लिए स्टैंडबाय पर रखा है।

Pfizer की vaccine 95% प्रभावी है

अमेरिकी फार्मा कंपनी Pfizer और जर्मन कंपनी Bioentech का संयुक्त कोरोना वैक्सीन, चरण -3 के परीक्षण में 95 प्रतिशत प्रभावी साबित हुआ है। कंपनी के मुताबिक, वैक्सीन बुजुर्गों पर प्रभावी रही है। कोई गंभीर side effects नहीं देखा गया। Pfizer ने दिसंबर तक वैक्सीन के 50 मिलियन doses तैयार करने की योजना बनाई है।

Pfizer के फेज 3 के ट्रायल में लगभग 44,000 लोगों ने हिस्सा लिया। इनमें से 170 लोगों  corona positive पाए गए थे । इनमें से 162 मरीजों को प्लेसबो दिया गया था, न कि vaccine।

Pfizer vaccine भारत में उपलब्ध होने में समय लगेगा

कोरोना के इलाज के लिए भारत में Pfizer vaccine लाने में कई अड़चनें हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, देश में वैक्सीन रखने के लिए सुपर कोल्ड स्टोरेज की सुविधा नहीं है और साथ ही इसके लॉजिस्टिक्स के लिए भी। इस स्थिति में भारत को वैक्सीन उपलब्ध कराना थोड़ा मुश्किल है। इसके अलावा, फाइजर वैक्सीन की लागत बहुत अधिक है।

भारत सरकार फाइजर से बात करने के लिए तैयार

भारत सरकार फाइजर के कोरोना वैक्सीन को भारत में उपलब्ध कराने के लिए कंपनी से बात करने के लिए तैयार है। सरकार भी सक्रिय रूप से जानकारी मांग रही है कि किस स्तर की तैयारी करने की आवश्यकता है। अभी सबसे बड़ा सवाल सुपर कोल्ड स्टोरेज इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण करना है। भारत के बड़े और महानगरों में भी इस तरह की सुविधाएं पर्याप्त नहीं हैं।

ब्रिटेन में कोरोना की वजह से 59,000 से अधिक लोगों की मोत हुई है

ब्रिटेन दुनिया का सातवां सबसे अधिक कोरोनरी संक्रमण वाला देश है। ब्रिटेन में 16 लाख 43 हजार 86 से अधिक मामले सामने आए हैं, जबकि 59 हजार 51 से अधिक लोगों ने अपनी जान गंवाई है। वर्तमान में 1,415 लोग गंभीर हैं। यहां कुल 4.37 करोड़ लोगों का परीक्षण किया गया है।

कंपनी 2021 के अंत तक 1.3 बिलियन dose बनाने में सक्षम है

कंपनी का दावा है कि 2020 के अंत तक 50 मिलियन dose और 2021 के अंत तक 1.3 बिलियन dose का उत्पादन करने में सक्षम है। मौजूदा परिस्थितियों में, वैक्सीन का उपयोग 30 दिनों के भीतर किया जाएगा, इसलिए इसे स्टोर करने में कोई समस्या नहीं होगी। कंपनी के अनुसार, इस vaccine को स्टोर करने के लिए -70 डिग्री का तापमान आवश्यक है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *